News.

Back

पाले से किसान तबाह, हाथ पर हाथ धरे बैठी है सरकार: श्री शिवराज सिंह चौहान

17 Jan 2019

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को राजगढ़ जिले के कुरावर, इकलेरा, तलेन, पचोर, खुजनेर समेत दर्जनों गांवों का दौरा किया। श्री चौहान ने पाले से प्रभावित फसलें देखीं और किसानों से बात कर नुकसान के संबंध में जानकारी प्राप्त की। इस दौरान किसानों ने उनका आत्मीय स्वागत किया।

पूर्व मुख्यमंत्री ने मकर संक्रांति की शुभकामनाएं दी और जनता के सुख-दु:ख में सदैव साथ रहने का संकल्प दोहराया। श्री चौहान ने कहा कि रास्ते में जनता जगह स्वागत के लिए उमड़ पड़ी। मैं समझ ही नहीं पाया कि मैं मुख्यमंत्री नहीं बना, सरकार नहीं बना पाया, लेकिन हारने के बाद भी जनता हीरो जैसा स्वागत कर रही है। उन्होंने कहा कि आज यह कहने आया हूं कि जिंदगी आप पर न्योछावर है। सरकार भले ही हम न बना पाएं हों, लेकिन बहुमत उनका भी नहीं है। चाहते तो हम भी बना लेते, लेकिन सोचा कि अधूरी नहीं पूरी सरकार बनायेंगे। श्री चौहान ने कहा कि मुझे पद से भी मतलब नहीं है, ये आते रहते हैं, जाते रहते हैं। मैं तो जनता के लिए जीने वाला हूं और जनता के लिए ही मरूंगा।

श्री चौहान ने प्रदेश सरकार को संवेदनहीन बताया और आलोचना करते हुए कहा कि चना, घना, मसूर, आलू की फसलों को व्यापक नुकसान हुआ है। अभी तक कहीं सर्वे नहीं हुआ, कोई अधिकारी कहीं नहीं गया। पाले से अन्नदाता तबाह है और सरकारी अमला हाथ पर हाथ धरे बैठा है। उन्होंने कहा कि सरकार को नुकसान का आकलन कर इसकी भरपाई करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि वह पीड़ित किसानों को मुआवजा दिलाने के लिये सरकार से बात करेंगे। बात करने से अगर कुछ नहीं होता है, तो इसके लिये संघर्ष करेंगे। श्री चौहान ने कहा कि अन्नदाता के चेहरे पर मुस्कान और घर में खुशहाली ही मेरा संकल्प है। इसके लिये जिस स्तर पर लड़ाई लड़नी होगी, हम लड़ेंगे। उन्होंने किसानों को आश्वस्त करते हुए कहा कि पहले मुख्यमंत्री था तो कलम की ताकत से काम करता था, अब लड़-लड़ के आपकी सेवा करूंगा। चिंता मत करना, टाइगर अभी ज़िंदा है। लड़-लड़ के मुआवजा तो दिलाएंगे ही, सभी किसानों का कर्जा माफ कराएंगे और सोयाबीन पर पांच सौ रूपये प्रति क्विंटल बोनस भी दिलवाएंगे।

खेतों में पहुंचे शिवराज

पूर्व मुख्यमंत्री श्री चौहान इकलेरा समेत विभिन्न स्थानों पर किसानों के खेतों में भी पहुंचे। पाले के कारण पीली पड़ चुकी फसलें देखीं और प्रभावित किसानों से बात कर उनको मदद दिलाने के लिये अपने स्तर से हर संभव प्रयास का आश्वासन दिया।