News.

Back

सरकार को नींद से जगाने के लिए आज इंदौर में धिक्कार आंदोलन किया।

09 Mar 2019
सरकार को नींद से जगाने के लिए आज इंदौर में धिक्कार आंदोलन किया।

सरकार को नींद से जगाने के लिए आज इंदौर में धिक्कार आंदोलन किया। कांग्रेस सरकार और इसके मंत्री बेलगाम हो गये हैं। जनता के सुख-दुःख की परवाह नहीं है। अपराध अपने चरम पर है। किसान को उसका हक नहीं मिल रहा है। हम यह अन्याय नहीं होने देंगे। सोयाबीन और मक्का का 500 रुपया बोनस का नहीं मिला। किसानों को बोरियां नहीं मिली, तो अपनी बोरियों में धान भरकर रख दिया और बारिश में वह खराब हो गया। सरकार से पूछा, तो कहा कि पोर्टल ही बंद हो गया था। ऐसा ही रहा, तो हम तुम्हारी सरकार बंद कर देंगे। चारों तरफ त्राहि-त्राहि मची है। कांग्रेस ने कहा था कि 2 लाख रुपये तक का कर्ज माफ करेंगे। आज 200, 300, 400 रुपये देकर कांग्रेस किसानों के साथ कर्ज माफी के नाम पर मजाक कर रही है। किसानों का कर्जा माफ होना है, कुल 56 हजार करोड़ रुपये का और सरकार ने दिया केवल 6000 करोड़ रुपये, वह भी कर्ज माफी के लिए नहीं, बल्कि पूरे विभाग को। कथनी और करनी में फर्क, इसी को कहते हैं। किसानों के साथ कांग्रेस सरकार जो वादाखिलाफी कर रही है, वह सुन ले कि आज मैं उसके खिलाफ संघर्ष का ऐलान कर रहा हूं। कमलनाथ सुन लें, मैं यह खेल नहीं चलने दूंगा, 2100 रुपये प्रति क्विंटल गेहूं का दाम देना पड़ेगा। फसल जो बर्बाद हुई, उसका मुआवजा देना होगा।